Saturday, November 14, 2009

क्या यह बच्चे भी जानते होंगे बाल दिवस का मतलब ???

यह तस्वीरें मुझे मेरे दोस्त की फॉरवर्ड मेल से मिले थे...

And we say that we are working hard



 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

16 comments:

काजल कुमार Kajal Kumar said...

कानून हैं न !

"अर्श" said...

dukh hua hai inke liye jiske liye ham kuchh nahi kar paa rahe hain..



arsh

M VERMA said...

ज़ी नही ये नही जानते और फिर कौन चाहता है कि ये जाने!!
बिडम्बना तो यही है

संगीता पुरी said...

ऊफ .. इनका कष्‍ट देखा नहीं जाता !!

Raushni said...

in bachho ko is halat main dekh kar to apne uper sharm aa rahi hai.

Mithilesh dubey said...

आँखे नम हो जाती है ऐसे दृश्य देखकर।

Ek ziddi dhun said...

शमशेर की लाइनें कुछ इस तरह हैं-
जहाँ में जितने रोज हमारा जीना होना होना है
तुम्हारी चोटें होनी हैं हमारा सीना होना है

विनीता यशस्वी said...

Ek Ziddi Dhun ji kya khub line kahi hai apne...

ताऊ रामपुरिया said...

यह ठोस धरातल है जिससे कोई इंकार नही कर सकता.

रामराम.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत बढ़िया!
यह लिंक भी देख लें-
http://anand.pankajit.com/2009/11/blog-post_15.html

Arun said...

yah vakai mai jameeni hakikat hai

अभिषेक ओझा said...

ओह !

मुनीश ( munish ) said...

a very befitting post ! u have got a nice friend sure !

विनीता यशस्वी said...

yeah Munish u r right...i really got a very nice friend...

आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) said...

bahut kuch sochne par majboor kar gayee ye pics

Happy Blogging

Manish Kumar said...

sochn par mazboor kar rahe hain ye chitra ki hum aam nagrik ka naitik kartavya bhi nahin nibha pa rahe aisa hote dekh kar bhi..