Monday, December 1, 2008

मौसम

नैनीताल में कुछ इस अंदाज़ में हुआ जाड़ों का आगाज़

8 comments:

Vidhu said...

andaaj pasand aayaa

sidheshwer said...

सलाम नैनीताल !

ताऊ रामपुरिया said...

सर्दियों में आग तापने का मजा ही कुछ और है जो रूम हीटर में नही है ! हमारे यहाँ अभी इतनी ठण्ड नही है पर चित्र देख कर कंप कंपी छुट गई ! सामयीक चित्र !

रामराम !

शिरीष कुमार मौर्य said...
This comment has been removed by the author.
शिरीष कुमार मौर्य said...

ब्लागजगत में स्वागत है विनीता !
मुझे बताया नहीं तूने इसके बारे में !
एक फून मार देती या एस0एम0एस0 !

Arun said...

Accha andaz hai sardiyo ke swagat ka.

dr. ashok priyaranjan said...

thanks for information.

मैने अपने ब्लाग पर एक लेख लिखा है-उदूॆ की जमीन से फूटी गजल की काव्यधारा । समय हो तो पढें और प्रतिक्रिया भी दें-

http://www.ashokvichar.blogspot.com

Raushni said...

andaz mujhe bahi achha laga