Sunday, August 10, 2008

इतिहास में दफन एक झील

इतिहास बताता है कि कभी नैनीताल और इसके आस पास ६० से अधिक झीलें थीं जो घने वनावरण से ढकी और स्वप्निल नीले पानी से लबालब रहती थीं। लेकिन प्रकृति और मनुष्य ने मिल कर ५० से अधिक झीलों को लील लिया। अब जो एक दर्जन के करीब झीलें बची हुई हैं, गहरे संकट में हैं और अपने अस्तित्व के लिए जूझ रही हैं।

गौरतलब बात यह है कि भारत सरकार द्वारा बची हुई झीलों के लिए एक अरब रुपये की एक भारी-भरकम योजना संचालित की जा रही है। नैनीताल, भीमताल, सातताल, नौकुचियाताल, खुर्पाताल और नल-दमयन्ती ताल जैसी झीलों का प्राकृतिक जीवन लौटने की उम्मीद इस योजना से जरूर की जानी चाहिए, लेकिन काल का ग्रास बन चुकी मलबा ताल जैसी झीलों के पुनर्जीवन को इस योजना का हिस्सा ही नहीं बनाया गया है। इसलिए कभी १२१.७६ एकड़ में फैले ख़ूबसूरत मलबा ताल में दोबारा जीवन हिलोरे लेगा, ऐसी कोई आशा करना व्यर्थ होगा।

मलबा ताल नाम की यह सुन्दर झील भीमताल से करीब नौ मील उत्तर-पूर्व में 3,२०० फीट की ऊंचाई पर स्थित थी। विशेषज्ञ बताते हैं कि मलबा ताल हजारों साल पहले प्राकृतिक हलचलों के कारण अन्य झीलों की तरह अस्तित्व में आयी थी। इस क्षेत्र में यात्रा कर चुके अनेक देशी और विदेशी यात्रियों ने मलबा ताल का दिल खोल कर जिक्र किया है। एटकिंशन ने अपने गजेटियर `एटकिंशन गजेटियर´ में मलबा ताल के सौन्दर्य से अभिभूत हो इसका विस्तृत विवरण दर्ज किया है। उनका कहना है कि `भीमताल से एक सड़क द्वारा उत्तर में पहाड़ी धार को चढ़ते हुए इस झील तक पहुंचा जा सकता है। यह झील मछली पकड़ने के लिये विशेष रूप से जानी जाती थी और आवश्यता पड़ने पर यहाँ बने आवास में निवास करने की सुविधा भी थी। इस झील का आकार कहीं पर चौड़ा तो कहीं पर संकरा है जो दोनों पहाडियों की आकृति के अनुसार है, जिनके बीच यह झील स्थित है। झील के दक्षिणी छोर से इसका पानी बाहर निकलकर गौला नदी की सहायिका के स्रोत का रूप लेता है। इस कारण वहाँ पर एक जल कपाट सा बनाया गया है, ताकि झील में पानी का स्तर उठाकर पहाड़ों की तलहटी वाले क्षेत्र भाबर में सिंचाई के लिये इसके पानी का इस्तेमाल किया जा सके।´

एटकिंसन ने लिखा है कि झील के पश्चिमी छोर पर कालसागड़ का पानी आकर मिलता है, जो गागर चोटी (7,855 फीट) से लेकर रामगढ़ चाय बाग के ऊपर से गागर में फैली घाटी के पानी को समेटता है। यह नदी अपने साथ बड़ी मात्रा में पत्थर व मलबा लेकर झील में डालती रही और दोनों तरफ की पहाडियों के भूस्खलन का कारण बनी। यह झील बीच में 4,480 फीट लम्बी और सबसे चौड़े हिस्से में 1,883 फीट है और इसका विस्तार करीब १२१.७६ एकड़ में है। इसकी गइराई 128 फीट है। इस झील का पानी साफ और नीले रंग का है।

सिर्फ बरसात में मलबा बहकर आने का कारण इसका रंग गन्दा और मटमैला हो जाता है। इस झील के पानी को पीने योग्य नहीं समझा गया, जिसका कारण पानी है या ऊपर की घाटी का जलवायुगत असर कि मलबा ताल के पानी को यूरोपीय और स्थानीय लोग स्वास्थ्य के लिये खराब मानते हैं। मलबा ताल के बारे में स्थानीय लोगों में एक किंवदन्ती भी मशहूर थी, जिसे आज भी क्षेत्र के कुछ बूढे़ सुनाते हैं।

कहा जाता है कि पुराने समय में च्यूरीगाड़ में एक रैकवाल किसान था जिसका नाम मलबा था। वह बहुत ही ताकतवर और पहलवान था तथा स्थानीय लोगों को बहुत परेशान किया करता था। एक बार वह किसी व्यक्ति की पत्नी को एक गुफा में ले गया, जिससे देवता उस पर बहुत नाराज हुए और उन्होंने भूस्खलन कर गौला पर बाँध बना दिया जिससे गुफा उसमें डूब गई और इस मलबा झील का निर्माण हुआ। झील के निकास स्थान से काफी ऊपर भूस्खलन के निशान थे, जिसे लोग देवताओं द्वारा किया गया भूस्खलन बताते हैं। उस समय उस जगह का नाम मलवा का पैरा था। यह किंवदन्ती मलबाताल के अस्तित्व में आने की प्राकृतिक हलचलों की पीढ़ियों से चली आ रही स्मृतियों का हिस्सा हो सकती है, लेकिन मलबा ताल के नक्शे से गायब हो जाने के बारे में स्थानीय लोग कुछ ठोस नहीं बता पाते।

भूगर्भ विज्ञानी बताते हैं कि नैनीताल की मौजूदा झीलें जिन संकटों का सामना कर रही हैं, मलबा ताल उनसे दो चार नहीं हो पाया, इसलिए अपना अस्तित्व गँवा बैठा। झील के जलग्रहण क्षेत्र में व्यापक पैमाने पर वन विनाश हुआ, जिससे झील में पानी के साथ मलबा आने की गति बढ़ती चली गई। इस तरह अपने नाम को चरितार्थ करते हुए मलबा ताल मलबे में विलीन हो गया। क्या मलबा ताल को पुनर्जीवित किया जा सकता है, इसका जवाब भूगर्भविज्ञानी `हाँ ´ में जरूर देते हैं, लेकिन झील के अस्तित्व खो बैठने के कारणों की पड़ताल के बगैर ऐसी किसी कवायद को निरर्थक बताते हैं।

4 comments:

दीपान्शु गोयल said...

नई जानकारी दी है आपने। नैनीताल के आस पास इतनी झीले रही होगी सोच कर ताजुब्ब होता है। काश ये सभी आज भी होती तो नैनीताल की खूबसूरती देखने लायक होती।

Ashok Pande said...

तब भी पढ़ने में रोचक लगा था अब भी, विनीता! अच्छा है. काम करती रहें.

Udan Tashtari said...

रोचक जानकारी.

राजन said...

अच्छी जानकारी दी है आपने। इस तरह की जानकारी और दीजिए।